Fact Check:अमिताभ सर, NASA ने बारिश वाले बादल बनाने वाली मशीन नहीं बनाई

NASA की बारिश वाले बादलों को बनाने की मशीन के चक्कर में फंसे अमिताभ

1
125
False claim: Rain cloud generating machine developed by NASA
Indiacheck fact check : अमिताभ बच्चन का बादलों की मशीन बनाने वाले ट्वीट पर रिट्वीट का स्क्रीन शॉट

अमेरिका के नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन यानि NASA ने एक ‘Rain cloud generator machine’ यानि ऐसी मशीन बनाई है जिससे बारिश वाले बादल बनाए जा सकते हैं. इस संदेश के साथ बादल बनाने की मशीन से बादल निकलता हुआ वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है. ट्विटर यूज़र जयश्री विजयन ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर को टैग करते हुए ये ट्वीट किया. जयश्री ने लिखा ‘NASA ने बारिश वाले बादल बनाने वाली एक मशीन बनाई है,देखिए दुनिया कहां जा रही है.अदभुत!’ खास बात ये है कि अमिताभ बच्चन ने इसे रिट्वीट किया है. अमिताभ ने इस पर लिखा ‘क्या हम इसे भारत में ला सकते हैं?,अभी,अभी,प्लीज़!’ 

अमिताभ बच्चन के बारिश वाले बादलों की मशीन के रिट्वीट का स्क्रीन शॉट
जयश्री विजयन के बादलों की मशीन वाले ट्वीट पर अमिताभ बच्चन के रिट्वीट का स्क्रीन शॉट

अमिताभ बच्चन के रिट्वीट को अब तक 5000 लोग दोबारा ट्वीट कर चुके हैं. इसका आर्काइव्ड वर्जन आप यहां देख सकते हैं. इसके अलावा फेसबुक पर भी लोग इसे पोस्ट कर रहे हैं

फेसबुक पर वायरल नासा की बादलों वाली मशीन के पोस्ट के स्क्रीन शॉट
फेसबुक पर वायरल पोस्ट के स्क्रीन शॉट

बादलों की मशीन बनाने की खबर सोशल मीडिया पर पिछले साल भी वायरल हुई थी. फेसबुक पर हमें अप्रैल 2018 का वीडियो इसी संदेश के साथ मिला

इसका आर्काइव्ड वर्ज़न आप यहां देख सकते हैं

इसे भी पढ़ें

लखनऊ के पास इटौंजा की घटना को सांप्रदायिक रंग देकर किया गया वायरल


NASA की बारिश वाले बादलों की मशीन का फैक्ट चेक

सिंपल गूगल रिसर्च में जब हमने ‘Rain cloud generator machine’ की-वर्डस डाले तो हमें फोर्ब्स मैगज़ीन का एक लेख मिला. इस लेख को Marshall Shephard ने 4 अप्रैल 2018 को लिखा था. शेफर्ड मौसम वैज्ञानिक हैं और NASA में भी काम कर चुके हैं. उन्होने इस खबर का फैक्ट चेक किया और बताया कि NASA ने इस तरह की कोई मशीन नहीं बनाई है.

बादल बनाने वाली मशीन पर मौसम विज्ञानी Marshall Shephard  का फोर्ब्स मैगड़ीन में लेख का स्क्रीन शॉट
फोर्ब्स मैगज़ीन के आर्टिकल का स्क्रीन शॉट

उन्होने बताया कि ये रॉकेट टेस्टिंग का वीडियो है.इस पूरी प्रकिया को उन्होने अपने लेख में समझाया भी है. उन्होने बताया कि NASA ने जब से अपने RS-25 रॉकेट इंजन का परीक्षण Mississippi के Stennis Space Center में किया था तभी से इस तरह की झूठी खबरें प्रसारित हो रहीं हैं. दरअसल RS-25 लिक्विड हाइड्रोजन और लिक्विड ऑक्सीजन बाहर निकालता है औऱ जब ये आपस में मिलते हैं तो H2O यानि पानी बनाते हैं. इसलिए फोटो या वीडियो में जो बादल आप देखते हैं वो बहुत सरल वैज्ञानिक प्रक्रिया का बाई-प्रोडक्ट है. आप इस पूरे लेख को यहां पढ़ सकते हैं.

इसके बाद हमने Video Of Testing Of RS-25 Engine की-वर्डस का इस्तेमाल करके गूगल सर्च किया तो हमे ऑरिजनल वीडियो मिल गया. 500 सेकेंडस के इस वीडियो को Scinews ने एक साल पहले अपलोड किया है.इस पूरे वीडियो में से कुछ हिस्सा निकालकर सोशल मीडिया पर वायरल किया गया है. इस पूरे वीडियो को आप यहां देख सकते हैं

नासा के RS-25 इंजन का परीक्षण


निष्कर्ष

दावा-NASA ने बारिश वाले बादल बनाने वाली मशीन बनाई है

दावा करने वाले- जयश्री विजयन, फेसबुक यूज़र

सच- ये दावा गलत है

हमारी फैक्ट चेक स्टोरी में अगर आपको कोई गलती नज़र आती है तो आप हमें ज़रूर लिखें। हम अपनी गलतियों को स्वीकार करने के लिए पूरी तरह से हमेशा तैयार रहते हैं। आप हमें info@indiacheck.in या indiacheck1@gmail.com पर मेल कर सकते हैं। हम एक प्रक्रिया के तहत जांच करेंगे औऱ गलती पाए जाने पर स्टोरी को अपडेट करेंगे।

Donate to India Check!
Independent journalism that speaks truth to power and is free of corporate and political control is possible only when people start contributing towards the same. Please consider donating towards this endeavor to fight fake news and misinformation.

Donate Now

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here